tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






कोहरे के पीछे

 

 

अपनी नंगी बाहें आसमान की तरफ फैलाए
क्या मांगता है खुदा से वह ठूँट
वो पतझड़ का मारा
सूखा पेड़ ?
चुपचाप चींखता है शायद
लौटा दो मुझको
मेरे पते, मेरे फूल ,मेरे फल
मेरे नंगे जिस्म को ओढ़ा दो
बसंत के कपड़े


Radhakrishna Arora

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...