swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 

तू जाने

या ना जाने

क्या फर्क पड़ता है !

मैं जानता हूँ

जान लिया तुम्हें

तुमसे भी ज्यादा

क्या यह

काफी नहीं

तुम्हारे दिल का

एक कोना पाने को ?

 

 

HTML Comment Box is loading comments...