tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






मेरी मां

 

> ले जन्म तेरी कोख से
> दुनिया की सारी खुशिया मिल गयी
>
> वो बारिशो वाली काली राते
> वो तेरी छाव वाली सुनहरी राते
> भीगे बिस्तर पर खुद सोना
> सूखे पर मुझ को सुलाना
> खुद पानी पी कर सो जाना
> मुझे भर पेट खिलाना
> जब से जन्मा तेरी कोख से
> शारी ख्वाहिशे खत्म हो गयी
> खुदा से

 

 


> तेरा यू मुस्कूराना
> ले छडी पीछे मेरे पड़ जाना
> पकड़ मुझ को ठंडे पानी से नेहलाना
> दुनिया की नज़र से बचाने के लिये
> काला टीका लगाना
> जब मेरा रात को चांद के लिये ज़िद्द करना
> तेरा मुझ को यू आईना देकर फुसलाना
> वो कंधे पर बेठा कर स्कूल ले जाना
> वो चाचा के बाग से मेरे लिये आम चुरा लाना
> बेठ घर के गलियारे मै
> तेरा मुझ को यू निहारना
> ज़रा सी चोट लगने पर यू
> तेरा मायूश हो जाना
> कितना खुशनशिब हू मां
> तू जो मिली मुझे
> मेरा इशवर तू
> मेरा घर तू
> मेरी दुआ मै तू
> मेरी कलम तू
> मेरी दवात तू
> मेरी हर आरज़ू तू
> मेरी हर ख्वाहिश मै तू
> मेरा स्वर्ग तू
> मेरा जगत तू
> तेरे बिन मै कुछ नही मां
> मेरी सांस तू
> मेरी हर आश तू
> जो मेने लिखे वो अल्फाज़ तू
> मेरी धरती भी तू
> मेरा अंबर भी तू
> जितना भी लिखू तेरे बारे मै
> वो कम है मां
> क्यू की इस दुनिया मै
> तुझ से भी बड़कर ओर कोन है मां

 

 

 

अजनबी राजा

 

HTML Comment Box is loading comments...