tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






मृग मरीचिका सा यह जीवन

 

 

मृग मरीचिका सा यह जीवन
सच क्या है पर क्या दिखलाए|
साँसें कम है चाह अधिक है,
यह तृष्णा दर दर भटकाए|
चेहरा चेहरा इश्तिहार है,
असली चेहरा नज़र न आए|
शब्द शब्द इक आडम्बर है ,
समय मुखौटों से बतियाए|

 


आर० सी० शर्मा आरसी

 

 

HTML Comment Box is loading comments...