tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






नव पीढी तुम .

 

 

नव पीढी तुम इस देश का संबल बनो
माहौल कीचड़ है तो क्या तुम कमल बनो
जो जलना चाहता है उसके लिए अंगार बनो
चैन-सुकूं जो चाहे उसके लिए जलधार बनो
चंड-प्रचंड ज्वाला कहीं, कहीं गंगाजल बनो
नव पीढी तुम ....... माहौल कीचड़ ........

 

वतन की खुशहाली तेरी आँखों का सपन हो
दिल में हो वतन परस्ती,सर पर कफ़न हो
हर क़दम हो दृढ़ता भरा,कभी न विचल बनो
नव पीढी तुम ...... माहौल कीचड़ ........

 

तोड़ दो उन हाथों को जो छीनते ग़रीब का निवाला
वतन से जो करते ग़द्दारी, कर दो उनका मुंह काला
अमा की इस रात को परास्त कर, तुम चांदनी धवल बनो

नव पीढी तुम ......... माहौल कीचड़ .......


जाति-धर्म की मानसिकता से तुम्हे उबरना होगा
मन में सिर्फ़ एकता-अखंडता का भाव भरना होगा
आज़ादी के इस खेत में प्रेम भाईचारे की फसल बनो
नव पीढी तुम ....... माहौल कीचड़ .....

 

अधिकारों के मद में अपने कर्तव्यों को मत भूलो
उड़ान हौसलों की ऐसी हो कि हर बार गगन छूलो
सारी सृष्टि नत-मस्तक हो जाये,
तुम इतने मुकम्मल बनो
नव पीढी तुम ..... माहौल कीचड़ है ........

 

 


आशा पाण्डेय ओझा

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...