tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






निशब्द

 

 

आज मुझे
उस हँसी ने
अंतःकरण तक
झिंझोड़ दिया
उसके पीछे,
आशय क्या था ?
मस्तिष्क को सोचने पे
विवश कर दिया

 

 

दर्पण में झाँकने को
पल पल में बाध्य
द्वंदात्मक पहलू में
कुछ रहा न साध्य

 

 

क्यूँ क्यूँ
क्यूँ किया ऐसा
वो भी जब
मैं कह रहा था
गम्भीर शब्द
वो हँस रहा था
और मैं हो गया था
निशब्द निशब्द

 

 



-अभिषेक कुमार ''अभी''

 

 

HTML Comment Box is loading comments...