tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






नियती का खेल

 

तेरी छाॅंह के नीचे बैठा
मैंने सार्थकता महसूस की थी,
फिर तेरी खुशी, मेरी खुशी
छिप गई कहाॅं...़
छीन ले गया कौन...
पतझड आया ;
मेरे जीवन में तुम्हें-
वसंत की प्रतीक्षा थी !
नियती ! तूने खेला पहला खेल !
तेरी मर्ज़ी है मनमर्जी....
तूने दिया था मुझे,
तरल लहर-सा
वह पहला फूल !
मैंने इसे प्यार से संभाला,
फिर तुने ही....
कुचल दिया उसे !
मेरे सपने छीन लिए तुम,
क्यों न हो निष्ठूर !
नियती ! तूने खेला पहला खेल !
काॅंटे तू ने ही बिछाए थे,
कसक है क्या चुभने से...
अब शैतल्य ही भाता मुझे,
क्या तुम शीतल हो...
मेरा तप्त जीवन,
तेरी शीतल छाया में विलीन;
सो जाउूॅं मैं चिर-निद्रा !
नियती ! तूने खेला पहला खेल !

 

 

डा० टी० पी० शाजू

 

HTML Comment Box is loading comments...