tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






प्रकृति

 

ये  प्रकृति   है  सुंदर  कितनी  बड़ी,

 मानव  तू  इसको  उजाड़  ना  कभी !!

इन   फूलो  को  देख, इन  कलियो  को  देख,

इनके  नेत्रो  मे  फैले  अश्रुओ  को  देख !!

इनकी  सुंदरता  को  देख, इनकी  लालिमा  को  देख,

इनके  अधरो  पर  फैली  मुस्कान  को  देख !!

हिंम  से  भरी  हिमालय  को  देख,

रसा  भरी  इन  तटिनी  को  देख !!

गंगा  को  देख  तू  यमुना  को  देख,

पावन    पुनीत  सी  जमुना  को  देख !!

इन  वसुधा  को  देख  इन  मारूत  को  देख,

इन  अंबर  को  देख  इन  महीधर  को देख !!

तू  है  अपना  पराया  इसने  सोचा  नही,

तू   है  सच्चा  या  झूठा  इसने  देखा नही !!

तेरे  जीवन  को  प्रसुनो  ने  महकाया   है,

 तिमिरो  को  दिवाकर  ने  दूर  भगाया  है !!

 सरिताओ  से  प्यास  बुझाई  है,

पवनो  से  साँस  चलाई  है !!

इनको  दूषित  ना  कर , विदुषित  ना  कर,

इनके  एहसानो  को  इस  तरह  विसरित  ना  कर !!

 है प्रकृति  बड़ी  अनमोल ,

इससे  चलती  है  सारी  सृष्टि  !!

वसुधा  ये  अंबर  इन  तारो  की  चमक,

वृक्षो  की  हरियाली, पवनो  की  सनसनाहट !!

इन्हे     देख   और  करले  विचार,

इनके  दम  से  ही  चलता  सारा  संसार !!

 प्रकृति  की  देन  को  उजाड़  ना  कभी,

इसकी  रौनक  को  संभालकर  रख  ले !!

स्वच्छ  हो  जाएगा  ये  सारा  जहा,

ना   गंदी  होगी  ये  अवनी  !!

 धरा  पर  खिलेंगे  सुगंधित  फूल,

खिलखिलाकर  हसेग़ी   प्यारी  धूप !! 

तेरे  जीवन  मे  रोशन  ही  रोशन  होगा,

तू  स्वस्थ  होगा  तू  समर्थ  होगा !!

 प्रकृति  है  विधाता  की  अनमोल  देन,

तेरा  जीवन  भी  तो  है  इस  प्रकृति  की  देन !!

ज़रा  दिल  से  सोच , करले  विचार,

अपनी  प्रकृति  से  करले  जी  भर  के  प्यार !!

 

 

meri ye kavita mere swargiya pitaji ki yaad gari me

 

Rohini Tiwari

 

 

HTML Comment Box is loading comments...