tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






रचना का प्रतिबिम्ब कहाँ ?

 

 

हंसी -ठिठोली करने वालों
मुझे बताओ
रचना का प्रतिबिम्ब कहाँ है
मुझे दिखाओ
ढोल -मजीरा लेकर
चौकठ-चौकठ ना खांचो
सहनशील यह धरा हमारी
इसे जमकर जांचो
जांचो फिर जांचो
फिर कुछ पाओ
रचना का प्रतिबिम्ब कहाँ
मुझे दिखाओ
आँगन में रौनकता ला दें
ख़ुशी-ख़ुशी हर दीप जला दें
अंधियारे को दूर भगाओ
रचना का प्रतिबिम्ब कहाँ है
मुझे दिखाओ ||

 

 

 

--


Sukhmangal Singh

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...