tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






समय

 

 

(पुष्प राज चसवाल)

 

 

कांपती दीवार पर
रेंगते नीले पीले साये
आशा खड़ी मलिन-सी
काला आँचल लहराये,
कुंठित भावना से भयभीत
हो रहा वर्तमान व्यतीत
पल-पल गलते
उहापोह की दलदल में
मैं, तुम और --- वह
चलते-चलते अनजाने में
यूं ही रहे बीत।

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...