tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






शिक्षक

 

 

शिक्षक कृपा है, शिक्षक दिशा है,
शिक्षक ही दाता शिक्षक विधाता,
है मन की प्रेणना संदर्भ धारणा,
इसमें बसा है अमृत सुधा सा ।
फूल की महक है मकान की फलक है,
अज्ञेय अजेय अतिथि अमर है,
हितैषी अनादि अदृष्य अगम है,
अनंत अगम्य अदम्य अजर है ।
अन्धे की लाठी है कहने को माटी,
जनम है मरन है निरकार साथी,
मौसम की रौनक है हिन्दी में मानक,
पयोध पयोधर मनन मृदुभाषी ।
माता के आँचल में जैसे आंखें है मूंदे,
सदियों के प्यासे को राहत की बूँदें,
खिलते चेहरों की वह मुस्कान ऐसे,
सांसो में छुपा एक संगीत जैसे ।
उन एहसासो को महसूस करते ही,
सिर आदर से झुक जाता है,
हर मीठी मीठी बात पर,
वो समझाना याद आता है ।
ताउम्र रहेगा याद मुझे,
वे पल और उनका सुंदरपन,
उन पल की यादें खीचे मुझको,
खिल खिल जाएँ मेरा मन
खिल खिल जाएँ मेरा मन

 

 


रोहित अवस्थी

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...