tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






सूखी कलियों

 

 

kaliyan

"संभव है सूखी कलियों को खिलने की इच्छा पुनः न हो।
भावी अरमानों से गत व्रण सिलने की इच्छा पुनः न हो।
चाहे कितना ही ज्ञानी हो लेकिन यह मेरा दावा है-
वह मनुज नहीं जिससे मिलकर मिलने की इच्छा पुनः न हो।"

 

 

"जब सभी प्रिय जा चुके थे तोड़कर।
तब रखा सम्बन्ध जिसने जोड़कर।
अब भले बर्बाद हो जा जिन्दगी!
जी सकूँगा पर न कविता छोड़कर…"

 

 

अनुराग शुक्ला

 

 

HTML Comment Box is loading comments...