swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 

‘‘सुर्ख हुए रेत के पाँव’’
		-शिवचरण सेन ‘‘शिवा’’
पूर्व दिशा से 
उगल रहा 
रवि
मुख से ज्वाला सी
जादुई किरणंे,
मंत्र मुग्ध हो उड़ रहा
झीलों/नदियों का
खारा/मीठा निर्मल जल
सुर्ख हुए रेत के पाँव
ताक रहे क्षितिज की ओर
अपनी एड़ी की
फटी बिवाईयों के क्लांत मन से,
स्वाहा कर रहे उन्मुक्त होकर 
हरी दूब/वृक्षों की
पत्तियों के झुलसे चेहरे 
अपनी कोमलता को,
वृक्ष अपनी नंगी देह के सिर पर
आशाओं/आकांक्षाओं/अपेक्षाओं की
गठरी लिए 
तपस्वी जैसे
स्तब्ध खड़े हंै पंजों के बल
और 
टपक रहे 
खारे जल बिम्ब 
आदमी की देह से।
 

 
HTML Comment Box is loading comments...