tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






वसंत

 

 

हर बार वसंत आती है.....
खोने केलिए !
राग-रंगों से
सजधज कर
देह-गंध और
मिट्ठी की सोंध से
मोहित और कंपित.....
स्वप्निल मधु वसंत !
ंअब भी प्यार है.......
मुझे रंगीन धूसरों से
मगर डर है सच......
हर बार वसंत आती है.....
खोने केलिए !

 

 

 

डा० टी० पी० शाजू

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...