tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






एक युग का अवसान

kalam

 

हे महान आत्मा !
आपको शत-शत नमन!!

 

अंततः आठ दशकों की
यह अनवरत यात्रा थम ही गई
आप भी हो गए चिरनिंद्रा में लीन !!
यूँ लगता है जैसे — एक युग का अवसान हो गया है!

 

सही अर्थों में आप भारत रतन थे!
आपका कद हर सम्मान से ऊँचा था;
"भारत रतन" आपके नाम के साथ
जुड़कर स्वतः ही सर्वोच्च हो गया / सार्थक हो गया !

 

आपकी यात्रा भले ही थम गई है;
लेकिन क्या थम सकेगी कभी, अग्नि की उड़ान !

 

वह अग्नि जिसे पाकर देश—
गौरवान्वित हुआ / भयमुक्त हुआ
क्या कभी हो पायेगा राष्ट्र उऋण इस ऋण से !

 

धन्य वह राष्ट्र, धन्य वह माता जो ऐसे "लाल" जनती है।

 

 

 

—महावीर उत्तरांचली

 

 

HTML Comment Box is loading comments...