tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






कविता — संजीव ‘सलिल’


*
युग को सच्चाई का दर्पण, हर युग में दिखाती चले कविता.
दिल की दुनिया में पलती रहे, नव युग को बनाती पले कविता..
सूरज की किरणों संग जागे, शशि-किरणों संग ढले कविता.
योगी, सौतन, बलिदानी में, बन मन की ज्वाल जले कविता

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...