tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






जिन्दगी और जिया

 

 

पग पग चलती ये जिन्दगी,
कतरा कतरा खुद की कशी,
हर लम्हा गुजरा जो याद में,
खुदा जाने क्या है खुदकशी ।

 

सच्ची तुमसे दिल की लगी,
बाकी सब तो बस दिल्लगी,
समझ ले किस्मत की करनी,
खुदा जाने क्या है खुदकशी ।

 

तकदीर पे अपनी हक सदा,
बदल देगा तू क्या ये जहां,
सोच में जरा सी तब्दील की,
खुदा जाने क्या है खुदकशी ।

 

रास्ते की उड़ती धूल हम,
हालात से रहे मजबूर हम,
जिन्दगी हमेशा बंधन बँधी,
खुदाजाने क्या है खुदकशी ।

 

मुक्ति ना मिलेगी यूँ कभी,
गम मिलेगा अपनों को भी,
लिबास तो तूने बदला 'जिया'
क्या रास आयेगी ये खुदकशी ।

 

 

Rest in Peace ' Jiya Khan '

 

 

' रवीन्द्र '

 

 

HTML Comment Box is loading comments...