swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 

॥ रंगे हाथ ॥
लघुकथा
सुरेश शर्मा
उन्होने फाइल उलट-पलट कर देखी,फिर पूछा- ठीक है, कितने लाये हो ।
काम होता हुआ जानकर

उनके चेहरे पर चमक दौड गई । जेब से लिफाफा निकाल कर देते हुए बोले- ये पांच हजार हैं साहब ।
लिफ़ाफा लेते हुए वह कुछ कहने वाले थे कि तभी उनका पुत्र हाथ में कितबा पकडे हुए आकर पूछने लगा- पापा इसमें लिखा हुआ है कि रिश्वत लेना पाप है । रिश्वत का मतलब क्या होता है, पापा । सुनते ही वे क्रोध से तमतमा उठे । बालक को झापट लगाते हुए चिल्लाये- नालायक,तेरे को कितनी बार समझाया है कि जब मेरे पास कोई बैठा हो तो कमरे में मत आया कर ।
अपमान-बोध से रूआंसा होकर बालक गाल पर हाथ सहलाता हुआ करमे से बाहर जाने लगा तब उसके हाथ से किताब छूट चुकी थी ।
 
 
 235,क्लर्क कालोनी
इंदौर।म.प्र.। 452011    

 

HTML Comment Box is loading comments...