TOP BANNER

TOPBANNER







flower



july2015
कविताएँ 

आलेख

गज़ल

गीत

मुक्तक

हाइकु

कहानी





संस्थापिका एवं प्रधान सम्पादिका--- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
सम्पादकीय कार्यालय--- --- 1502 सी क्वीन हेरिटेज़,प्लॉट—6, सेक्टर—
18, सानपाड़ा, नवी मुम्बई---400705
Email :-- swargvibha@gmail.com
(m) :--- +919322991198

flower5

rosebloom





 

ज़ख़्म जब पाते हैं,तेरे दर पर आते हैं--रवीन्द्र गोयल

 

' बन्दगी '

ज़ख़्म जब पाते हैं , तेरे दर पर आते हैं,
तेरी रहमत का मरहम, रूह पर पाते हैं,
कैसे कहें इबादत, उनकी बन्दगी को,
जो नाम तेरा ले कर, ज़ख्म दे जाते हैं ।

 

 

HTML Comment Box is loading comments...