TOP BANNER

TOPBANNER







flower



july2015
कविताएँ 

आलेख

गज़ल

गीत

मुक्तक

हाइकु

कहानी





संस्थापिका एवं प्रधान सम्पादिका--- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
सम्पादकीय कार्यालय--- --- 1502 सी क्वीन हेरिटेज़,प्लॉट—6, सेक्टर—
18, सानपाड़ा, नवी मुम्बई---400705
Email :-- swargvibha@gmail.com
(m) :--- +919322991198

flower5

rosebloom





 

वो इंसान गरीब है,जिसके पास पैसा--संचिता

 

वो इंसान गरीब है , जिसके पास पैसा होते हुए भी अपनों की कमी है ,
और वो इंसान अमीर है जिसके पास पैसा नहीं है पर अपनों का प्यार है।

------------------------------------------------------------------------------------------------------------

सापनो की उड़ान में तोह हम भी आस्मां को छूना चाहते है
पर हम यह भी नहीं भूलते की असली जगह हमारी इस ज़मीन पर ही है

------------------------------------------------------------------------------------------------------------

ना सोचो तुमने क्या पाया और क्या खोया है
सोचो जितना भी है पाया उसमें खुश हमको अभ रहना है
तभी इंसान सुख का असली अनुभव कर पाया है।
------------------------------------------------------------------------------------------------------

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...