tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






 

 

संकट मेँ हैँ भविष्य के फूल

 

 

उत्तर प्रदेश - विद्यालय को विद्या का भंडार कहा जाता है.वहाँ बच्चोँ के
जीवन को सवाँरा जाता है.उन्हेँ भारत का एक शिक्षित और जिम्मेदार नागरिक
बनाया जाता है.मगर जौनपुर जिले के बदलापुर थाना क्षेत्र के नरायनपुर गाँव
मेँ ठा.हवलदार रायसाहब सिँह इण्टर कालेज नामक एक प्राईवेट स्कूल है.
है.इस प्राईवेट स्कूल की मान्यता तो सिर्फ आठवीँ तक है मगर कक्षाएँ 12
वीँ तक चलती हैँ और यहाँ पर फीस के नाम पर बच्चोँ से जबरन वसूली की जाती
है.सिर्फ यही नहीँ फीस न जमा करने वाले बच्चोँ को भरी क्लास मेँ खड़ा करके
शर्मिँदा किया जाता है  और प्रबन्धक द्वारा उन्हेँ जातिसूचक गालियाँ  भी
दी जाती हैँ.मै जानता हूँ अब आप मुझसे ये पूछूँगे कि यहाँ के लोग अपने
बच्चोँ को सरकारी स्कूल मेँ क्योँ नहीँ भेजते? दोस्तोँ!सरकारी स्कूल मेँ
कितनी पढ़ाई होती है इसे सब जानते हैँ.अध्पाक भी देरी से आते हैँ और दिन
भर अध्यापिकाओँ के साथ गप्पे लड़ाते हैँ.और फिर छुट्टी हो जाती है.हमारे
देश की शिक्षा व्यवस्था यदि ऐसी ही रही तो भविष्य के फूल ( बच्चे) खिलने
से पहले ही मुरझा जाएँगे.

 

 

सागर यादव 'जख्मी'

 

 

HTML Comment Box is loading comments...