www.swargvibha.in






 

 

मजबूर किसको बोला कार्यक्रम से जागृत हो रहे है आदिम जन जाति के परिवार

 

majboor kisko

 

 

मजबूर किसको बोला कार्यक्रम से जागृत हो रहे है आदिम जन जाति के परिवार

 

बी0बी0सी0 मीडिया एक्शन के सौजन्य से ग्रामीण समाज कल्याण विकास मंच द्वारा ‘मजबूर किसको बोला‘ कार्यक्रम ने अपना प्रभाव दिखाना प्रारंभ कर दिया है। ग्रामीण समाज कल्याण विकास मंच के सचिव मो0 हशमत रब्बानी, कार्यक्रम प्रबंधक श्री अशोक कुमार सिंह एवं बी0बी0सी0 रिपोर्टर श्री मिथिलेश कुमार मीडिया कार्मियों के साथ आदिम जन जाति बहुल्य ग्राम गोरे पहुँचे, जो चैनपुर प्रखण्ड के नावाडीह पंचायत में स्थित है। सोहराई कोरवा, राजनाथ कोरवा आदि ने बताया कि स्थानीय फैसिलेटर्स श्री उमाकांत सिंह एवं अरविंद कुमार यादव द्वारा मजबूर किसको बोला कार्यक्रम अन्तर्गत एपिसोड सुनाए जाते है, अभी 28वाँ एपिसोड चल रहा है।

 

इस अवसर पर कार्यक्रम प्रबंधक श्री अशोक कुमार सिंह ने बताया कि एड्भास देकर, कोई काम का लालच दे तो झांसे में न आए साथ ही काम की तलाश में दुसरे शहर जाएं तो घर-परिवार एवं पंचायत को बताकर जाएं, उन्होंने कहा कि उधार पैसे देकर ब्याज के बदले जबरन खेत या खदानों में कोई काम करवाता है तो यह गैर कानूनी है।

 

मजबूर किसको बोला कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मंच के सचिव मो0 हशमत रब्बानी ने कहा कि 21वीं सदी में बंधुआ मजदूरी पर आधारित एक रेडियो कार्यक्रम है जो बी0बी0सी0 मीडिया एक्शन द्वारा संपोषित है।

 

आदिम जन जाति समुदाय को सम्बोधित करते हुए श्री रब्बानी ने कहा कि क्या आपको न्यूनतम मजदूरी से कम भुगतान किया जाता है, मानसिक शारीरिक दुर-व्यवहार या धमकी देकर काम कराया जाता है, किसी वस्तु की तरह खरीदा या बेचा जाता है, कही आने जाने पर प्रतिबंध लगायी जाती है, आपके परिवार को उसके इच्छा के विरूध काम कराया जाता है तो यह गैर कानूनी है। आपके अधिकारों का हन्न हो रहा है, जागरूक बनिए। अधिक जानकारी के लिए मिस्ड काॅल करें 09566213195 या टाॅल फ्री हेल्प नं0 18003456525 पर मुफ्त बात कीजिए।

 

ज्ञात हो कि ग्रामीण समाज कल्याण विकास मंच द्वारा पलामू जिले के तीन प्रखण्डो के दस गांवो में मजबूर किसको बोला प्रोग्राम के द्वारा अनुसूचित जाति एवं जन जाति तथा श्रमिक वर्ग के लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

 

आदिम जन जाति के परिवार इस कार्यक्रम से लाभान्वित एवं जागरूक हो रहे है, उन्होंने मीडिया कर्मी एवं प्रतिनिधियों को जानकारी दी कि 2009-10 में मनरेगा से कुआँ निर्माण हुआ था तथा बिृजा सिंह के घर से खखेरनाला तक रोड निर्माण कार्य का भुगतान आज तक नहीं हो सका। महेश राम ने बताया कि बिचैलिय हमारे नरेगा का पैसा कुरूमी देवी एवं राम स्वरूप का पैसा क्रमशः खाता सं0 12012677,78,79 से निकाल कर खा गए। उनका जाॅब कार्ड संख्या श्रभ्020802609100566 है, वर्तमान में कोई कार्य नहीं होने से मजदूर पलायन को मजबूर है। इतना ही नहीं वर्ष 2010-11 में 1.41 लाख की लागत से निर्मित सुखदेव यादव का कुंआ का भुगतान शत-प्रतिशत नहीं हो सका। सुखदेव ने बताया कि उन्हें कुंआ निर्माण कार्य हेतु मात्र 82700 रूपये का भुगतान हो सका है। जबकि केन्द्रीय टीम ने भी निरीक्षण कर भुगतान कराने की दिशा में पहले करने का आश्वासन दिया था। सुखदेव ने अपने घर से पैसा लगाकर कुंआ तो बनवा लिया लेकिन उसे पता नहीं उसका शेष रकम बिचैलिये अधिकारी मिलकर गड़क गये या नहीं।

 

बी0बी0सी0 मीडिया एक्शन के रिपोर्टर श्री मिथिलेश कुमार ने मनरेगा योजना का लाभ लेने का आहवान किया एवं जाॅब कार्डधारियों को काम वास्ते सामुहिक आवेदन की सलाह दी।






सचिव
मो0 हशमत रब्बानी
ग्रामीण समाज कल्याण विकास मंच
डालटनगंज, पलामू, झारखण्ड।

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...