www.swargvibha.in






 

 

अल्फ्रेड नोबेल की 119वीं पुण्यतिथि मनाई गयी

 

 

nobel

 

 

आज ही के दिन नोबेल पुरस्कार की शुरुआत हुई थी : डॉ. प्रदीप देवघर (_______________________________): स्वीडन निवासी रसायनज्ञ , अभियंता तथा अन्वेषक अल्फ्रेड नोबेल की 119 वीं पुण्यतिथि स्थानीय ताज ऑडिटोरियम में विपनेट, विज्ञान प्रसार, नई दिल्ली द्वारा पंजीकृत साइंस एण्ड मैथमेटिक्स डेवलपमेंट आर्गेनाईजेशन के बैनर तले मनाई गई । मौके पर "अल्फ्रेड नोबेल की देन" संगोष्ठी का आयोजन सम्पन्न हुआ। मौके पर वरीय सदस्य सह विवेकानन्द साइंस एंड इकोलॉजी डेवलपमेंट आर्गेनाईजेशन के राष्ट्रीय सचिव प्रभाकर कापरी ने कहा- आज ही के दिन सन् 1896 में अल्फ्रेड जी की मृत्यु हुई थी । वे भले ही हमारे बीच नहीँ हैं परन्तु विज्ञान प्रेमियों के दिल में बसे हुए हैं । संस्थान के किशोर सदस्य आदर्श कुमार ने खा- इन्होंने डायनामाइट नामक प्रसिद्ध विस्फोटक का अविष्कार किया था । साइंस आर्गेनाईजेशन के राष्ट्रीय सचिव डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव ने कहा- इनका जन्म 21 अक्टूबर, 1833 को बाल्टिक सागर के किनारे बसे स्टॉकहोम नामक नगर में हुआ था । सन् 1850 को इन्हें अध्ययन के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका भेजा गया किंतु वहाँ ये केवल एक वर्ष ही रह सकें । रूस से वापस आने के बाद वे अपने पिता के कारखानों में विस्फोटकों के विशेषकर नाइट्रोग्लिसरिन् के अध्ययन में लग गए । सन् 1867 में धूमरहित बारूद का भी, जिसने आगे चलकर कॉडाइट का रूप ले लिया, अविष्कार किया ।इन दोनों ही पदार्थों का उद्योग में तथा युद्ध में भी विस्तृत रूप से उपयोग होने लगा । इन्होंने जीवन पर्यन्त विवाह नहीँ किया ।मानव हित की आकांक्षा से प्रेरित होकर इन्होंने अपने धन का उपयोग एक न्यास स्थापित करने में किया जिससे प्रति वर्ष भौतिकी, रसायन, शरीर-क्रिया विज्ञान या चिकित्सा, आदर्शवादी साहित्य तथा विश्वशांति के क्षेत्रों में सर्वोत्तम कार्य करनेवाले को पुरस्कार दिया जाता है। ये पुरस्कार 'नोबेल पुरस्कार' कहलाते है । सन् 1901 में नोबेल पुरस्कार का देना प्रारम्भ हुआ है । मॉडर्न मोंटेस्सोरी अकेडेमी के शिक्षक अजय नन्दन ने कहा- हम उनकी राह पर चलकर सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे । मौके पर डाक द्वारा "अल्फ्रेड नोबेल एवं नोबेल पुरस्कार" शीर्षक निबंध प्रतियोगिता में नई दिल्ली के प्रीतम सागर को प्रथम, रांची की रूचि प्रिया को द्वितीय तथा चंडीगढ़ के रोहन कुमार को तृतीय स्थान प्राप्त की घोषणा की गई ।

 

 

PRADIP KUMAR SINGH Deo

 

 

HTML Comment Box is loading comments...