www.swargvibha.in






 

 

साजन गलानी द्वारा आत्म सम्मोहन पर केंद्रित सत्र भोपाल में

 

 

 

भोपाल,7 दिसंबर 2013 |

 

 

आज की परेशानियों से भारी ज़िंदगी में सभी को किसी न किसी बात की चिंता होती है या डर सताता है|इन्ही परेशानियों के उपाय के लिए भोपाल में आत्म सम्मोहन पर केंद्रित एक कार्यशाला आयोजित की गई जिसकी मेजबानीमुंबई से आए जाने- माने सम्मोहक श्री साजन गलानी ने की| आत्म सम्मोहन के ज़रिये वक्तिगत रूप से खुद को अध्यात्म सेजोड़ने में मदद मिलती है|

 


इस कार्यशाला का मकसद था लोगों को अनायास खुद को प्रेरित कर और ट्रांस की मदद से उद्देश्य को प्राप्त करने में मददकरना| जो कुछ भी हम सोचते हैं उसका हमारे शरीर पर सीधा असर पड़ता है| हम सब अपने जीवन में अलग-अलगपरिस्थितियों में संघर्ष करते हैं, प्रतियोगी परीक्षा या साक्षात्कार, धूम्रपान या नशा छोड़ने में परेशानी आदि|

 

 

श्री गलानी के अनुसार, "सम्मोहन एक सुरक्षित उपचार देता है जिसमें कोई साइड एफेक्ट्स नहीं होते| अपने अतीत या भविष्यमें जाने के लिए सम्मोहन का प्रयोग किया जा सकता है| आत्म सम्मोहन के मध्यम से हम अपने मस्तिष्क पर नियंत्रण करकेआत्मा को शांति देते हैं जिससे हमे कुछ आराम महसूस होता है| इस मध्यम से हम शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक औरअध्यात्मिक स्थितियों को चेतना में ला कर सामंजस्य बैठते हैं| अध्यात्म तक पहुँचने के लिए हमें पाँच बुराइयों को अपने वशमें करना होता है: वासना, क्रोध, जलन, आसक्ति और अहं|"

 

 

इस कार्यशाला का केंद्र आत्म-सम्मोहन, लक्ष्य प्राप्ति, मस्तिष्क शक्ति, अतीत में वापसी, भय और फोबिया है| यह कार्यशालादेश भर में आयोजित की गई जिसमें अनेक लोगों ने भाग लिया और मिडिया ने अच्छा कवरेज दिया|
इस कार्यशाला के सत्र को उन लोगों के लिए बनाया गया जो सम्मोहन के मध्यम से जीवन में सुधार लाना चाहते हैं| इस सत्रको दो हिस्सों में आयोजित किया गया| पहले पेशेंट ने आकर बताया की वे अपने व्यवहार में क्या बदलाव चाहते हैं| उनकीसमस्या की जड़ का विश्लेषण किया गया और परेशानी को उनसे अलग लिया गया| एक तरह से वही हुआ जैसे कम्प्यूटर कीहार्ड डिस्क की एक फ़ाइल से डील किया जाता है|

 


हर तरह के अलग-अलग लोगों ने इस कार्यशाला में भाग लिया|

 

 

श्री साजन गलानी ने बताया, "जल्दबाज़ी के जीवन में तनाव और परेशानियाँ हॉलमार्क बन गए हैं| चिंता मुक्त होना इसके लिएसबसे अच्छा उपाय है जिस पर सभी को ध्यान देना चाहिए| चिंता मुक्त व्यक्ति स्मार्ट, सेहतमंद, सफल, समझदार, खूबसूरत,जाने-माने और करियर को लगातार ऊपर पहुँचने में समर्थ होते हैं| वे अच्छे प्रेमी होते हैं| इनकी याददाश् अच्छी होती है औरये अच्छी तरह काम कर पाते हैं|"

 

 

 


यह कार्यशाला रविवार को भी आयोजित की जा रही है| श्री साजन गलानी भारत में एक ही ऐसे हिप्नोथेरेपिस्ट हैं जोहिप्नोसिस इंटरनेशनल बोर्ड ऑफ रेजिस्ट्रेशन के सदस्य हैं और हिप्नोडाएन फाउंडेशन, यू.एस.ए. से प्रमाणित हैं|
श्री गलानी ने अपने सत्र में करीब 100 लोगों को सम्मोहित किया जिसमें वे गहरी नींद में चले गए| अपने लेक्चर में उन्होनें सम्मोहन के विषय में लोगों के भ्रम दूर किए| हिप्नोथेरेपी के भारत भर में हुए सत्र अब तक सफल रहे हैं, चाहे मनोदैहिकपरेशानियाँ हो या अच्छे प्रदर्शन के लिए आत्मविश्वास पर आधारित सत्र| मनुष्य का मस्तिष्क हिमशैल की तरह होता हैजिसका ऊपरी हिस्सा चेतन अवस्था में होता है और हमें दैनिक जीवन के निर्णय लेने में मदद करता है, वहीं निचला हिस्साअवचेतन अवस्था में होता है और हमारे व्यवहार को नियंत्रित करता है|

 

 

HTML Comment Box is loading comments...