www.swargvibha.in






 

 

देशभक्ति गीतों की प्रस्तुति से शहीदों को नमन करेंगे बच्चे

 

 

mahaveer

 

आज सीहोर के क्रांतिकारियों की समाधी पर पुष्पांजली समारोह

सीहोर । शहीद सिपाही बहादुर स्मारक समाधी स्थल सैकड़ाखेड़ी मार्ग पर 14 जनवरी गुरुावार को श्रद्धांजली समारोह का आयोजन किया गया है। इस आयोजन में बड़ी संख्या में नागरिकों से उपस्थित होने की अपील विभिन्न संगठनों और समाजसेवियों ने की है। नगर पालिका द्वारा समाधी स्थल पर टेंट-दरी आदि की व्यवस्था की गई है।
प्रतिवर्ष अनुसार इस वर्ष भी सैकड़ाखेड़ी मार्ग स्थित शहीदों के समाधी स्थल पर पुष्पांजली का आयोजन किया जा रहा है। नगर पालिका सीहोर द्वारा यहाँ सभी व्यवस्था करते हुए टेंट-दरी के साथ ही आवागमन मार्ग को व्यवस्थित कराया गया है। शहीद सिपाही बहादुर स्मारक निर्माण समिति और बसंत उत्सव आयोजन समिति के आव्हान पर इस वर्ष अनेक स्वयंसेवी संस्थाएं तथा अनेक शिक्षण संस्थाएं भी आयोजन में स िमलित होंगी। संगीतिका संगीत महाविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा यहॉ देशभक्ति गीतों के माध्यमसे शहीदों को नमन किया जायेगा ।
ज्ञातव्य है कि 1857-1858 के भारतीय इतिहास के प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन में सीहोर के क्रांतिकारियों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और सीहोर को अंग्रेजों से स्वतंत्र कराकर पहली समानांतर सरकार सिपाही बहादुर की स्थापना की थी। क्रांतिकारी हवलदार महावीर कोठ के नेतृत्व में वलि शाह, सूबेदार रमजूलाल, आरिफ शाह, लक्ष्मण पाण्डे, रामप्रसाद, देवीदीन, शिवचरण जैसे क्रांतिकारियों ने सीहोर को अंग्रेजो से मुक्त कर दिया था। इन्ही सैकड़ो देशभक्त क्रांतिकारियों को बिना किसी नियमित जांच के १४ जनवरी १८५८ को जनरल ह्यूरोज की अंग्रेज सैना ने टुकडिय़ों में खड़ाकर इनके सीनों को गोलियों से छलनी कर दिया था। इस विशाल नरसंहार में करीब ३५६ से अधिक क्रांतिकारी शहीद हुए थे। जिनकी समाधियां सैकड़ाखेड़ी मार्ग पर सीवन नदी के कि नारे पर अब भी बनी हुई हैं।
शहीद सिपाही बहादुर स्मारक निर्माण समिति के आव्हान पर इस वर्ष १४ जनवरी सोमवार को प्रात: १०.30 बजे श्रद्धांजली सभा का आयोजन किया गया है।


 


निवेदक
ओमदीप
शहीद समाधी स्थल निर्माण समिति

 

 

HTML Comment Box is loading comments...