www.swargvibha.in






 

 

मेजर ध्यानचंद की 36 वीं पुण्य तिथि मनाई गई...

 

 

dhyanchand

 

देवघर वासियों ने हॉकी के जादूगर को याद किया देवघर (----------------------------------): झारखण्ड राज्य की सांस्कृतिक राजधानी देवघर में हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को उनकी 36 वीं पुण्य तिथि के अवसर पर याद किया गया । जर्मन तानाशाह हिटलर और महान् क्रिकेटर ब्रैडमैन को अपनी करिश्माई हॉकी से अपना कायल बनाने वाले ध्यानचंद भले ही आज हमारे बीच नही है परंतु जब तक हॉकी जीवित रहेगा तब तक वे हॉकी खिलाड़ियों के दिल में विराजमान रहेंगे । स्थानीय विधु भूषण सरकार रोड स्थित प्रदीप्स प्रतियोगिता प्रिपरेटरी क्लासेज में विद्यार्थियों ने उनको याद किया । मौके पर योगमाया मानवोत्थान ट्रस्ट के राष्ट्रीय सचिव डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव ने कहा- आज ही के दिन सन् 1979 को उनकी मृत्यु हुई थी । उनका जन्म 29अगस्त, 1905 को हुआ था । भारतीयों फील्ड हॉकी के भूतपूर्व खिलाड़ी कप्तान ध्यानचंद को भारत एवं विश्व हॉकी के क्षेत्र में सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में शुमार किया जाता है । वे तीन बार ओलिंपिक के स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम के सदस्य रहे हैं जिनमें 1928 का एम्स्टर्डम ओलिंपिक, 1932 का लॉस एंजेल्स ओलिंपिक एवं 1936 का बर्लिन ओलिंपिक शामिल है । उनकी जन्म तिथि को भारत में "राष्ट्रीय खेल दिवस" के तौर पर मनाया जाता है । ध्यानचंद को हॉकी के जादूगर माना जाता है । गेंद इस कदर उनकी स्टीक से चिपकी रहती कि प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी को अक्सर आशंका होती कि वह जादुई स्टीक से खेल रहे हैं ।यहाँ तक हॉलैंड में उनकी हॉकी स्टीक में चुम्बक होने की आशंका में उनकी स्टीक तोड़ कर देखी गई । अंतर्राष्ट्रीय मैचों में उन्होंने 400 से अधिक गोल किए ।सन् 1956 को भारत सरकार ने उन्हें "पद्मभूषण" की मानद उपाधि प्रदान कर उन्हें सम्मानित किया ।

 

 

 

PRADIP KUMAR SINGH Deo

 

 

HTML Comment Box is loading comments...