www.swargvibha.in






 

 

डॉ० तारा को शताब्दी कमलारत्नम सम्मान-पुरस्कार

 

kamlaratna

 

झारखंड राज्य की सांस्कृतिक राजधानी देवघर में 29 जून 2014 को विवेकानन्द शैक्षणिक, सांस्कृतिक एवं क्रीड़ा संस्थान तथा योगमाया मानवोत्थान ट्रस्ट के युग्म बैनर तले जसीडीह पब्लिक स्कूल परिसर में ’संस्कृत अकादमी पुरस्कार’ विजेता कमलारत्नम की शताब्दी जयन्ती के अवसर पर आयोजित राष्ट्रीय शिखर सम्मान-पुरस्कार समारोह में, हिन्दी भाषा के क्षेत्र में अतुलनीय सेवा एवं राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अभूतपूर्व उपलब्धियों के लिए स्वर्गविभा की संस्थापिका एवं प्रवीण साहित्यकार डॉ० श्रीमती तारा सिंह, नवी मुम्बई को ’कमलारत्नम साहित्य सलिला शताब्दी राष्ट्रीय शिखर सम्मान-पुरस्कार’ से अलंकृत किया गया । देवघर के उपायुक्त ,श्री अमित कुमार के हाथों डॉ० सिंह को सम्मान-पत्र, शॉल, प्रतीक चिह्न एवं पुष्पमाल्य प्रदान किये गये ।
सम्मान-समारोह उपरान्त आयोजित ’एक शाम कवियों के नाम’ की 100 वीं संगोष्ठी में डॉ० तारा सिंह का राष्ट्रगीत ’करो भारत को नमन, बोलो भारतीय हैं हम’, उनकी सुरीली आवाज ने महफ़िल में शमा बाँध दिया ।
डॉ० सिंह को अब तक देश-विदेश की संस्थानों द्वारा 237 सम्मान / पुरस्कार / मानदोपाधि से नवाजा जा चुका है तथा उनकी 30 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं ।

 

 


डॉ० बी० पी० सिंह
अध्यक्ष स्वर्गविभा, नवी मुम्बई

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...