www.swargvibha.in






 

 

गुरु रविदास आश्रम के पूर्व गुरु श्री काशीदास जी महाराज की 9वीं पुण्यतिथि मनाई

 

 

ravidas

 

 

 

संत शिरोमणि श्री रविदास आश्रम कर्रापुर के पूर्व संस्थापक ब्रह्मालीन संत गुरु स्वामी काशीदास जी महाराज एवं ब्रह्मालीन गुरु रामानंद जी की नवमीं पुण्यतिथि मनायी गई। पुण्यतिथि कार्यक्रम में चिहडू पंजाब से पधारे संत गुरु कृष्णनाथ जी एवं चण्डीगढ. से पधारे संत गुरु सतपाल जी ने गुरु रविदास जी एवं स्वामी काशीदास जी व गुरु रामानंद जी महाराज के विचारों पर प्रकाश डाला एवं समाज को उनके द्वारा बताए मार्गों पर चलने को कहा। गुरु कृष्णनाथ जी ने कही कि समाज को गुरु रविदास के बताए मार्गों पर चलना चाहिए। गुरु रविदास ने पाखंडवाद, जातिवाद, अंधविश्वास, रुढिवाद एवं भेदभाव का खंडन कर सभी को गुरु की शरण मे जाने एवं अपने अंदर के मानव को पहचानने पर जोर दिया। उन्होंने रविदास जी के उपदेश वाक्य-
“ऐसा चाहूुं राज मे, जिसमे सबन को मिलै अन्न।
छोटे बडे सब सम बसैं, रहें रविदास प्रशन्न्ा।
को आत्मसात करने को कहा। कार्यक्रम को संवोधित करते हुए आश्रम सहयोगी इंजीनीयर श्री राजेश चैधरी ने समाज को शिक्षित एवं संपन्न होने के साथ ही संगठित होने, तथा रुढिवाद, पाखंडवाद व जातिवाद जैसी जटिल समस्याओं से मुक्ति पाने का आग्रह किया। पुण्यतिथि कार्यक्रम की अध्ययक्षता आश्रम गद्दासीन संत गुरु श्री पंचमदास महराज जी ने की एवं कार्यक्रम मे विभिन्न आश्रमों व डेरों से पधारे गुरुओं एवं महात्माओं का आभार व्यक्त किया। पंजाब डेरा से आए सभी संतो का स्वागत, कार्यक्रम संचालक आश्रम के विशेष सहयोगी बाबा ने किया। डाॅ कमलेश अहिरवार ने पुण्यतिथि कार्यक्रम मे पधारे सभी गुरु प्रेमीयों का आभार व्यक्त किया एवं बताया कि अखिल भारतीय रविदासिया धर्म संगठन की बैठक तिथि बाद में घोषित की जावेगी। इस संबंध में 25 सितम्बर को एक बैठक आयोजित कर निर्णय लिया जायेगा। पुण्यतिथि कार्यक्रम में मुख्य रुप से बसंते सेठ, गुलाब मासाब, चंदन, राजा, सुनील मंडल, बलराम, सुभाष, बृजेन्द्र, बालचंद अहिरवार, आंेकार, हरिदास, संतोष, एवं समस्त आश्रम सेवकों ने सहयोग किया।

 

 

HTML Comment Box is loading comments...