www.swargvibha.in






एहसास मेरे दिल के फिर

 

ehsaasmere

 

-------------------------------
एहसास मेरे दिल के फिर
कुछ यूँ छले गए
आये वो दिल के द्वार तक
आकर चले गए
-------------------------------
- बृजेश यादव

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...