www.swargvibha.in






जो हक़ीकत अभी कहानी है

 

johakikat

 

जो हक़ीकत अभी कहानी है
वो हक़ीकत उन्हें जतानी है
उनके रुखसार पे जो इक तिल है
वो मेरे दिल की राजधानी है

 


-बृजेश यादव

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...