www.swargvibha.in






मिलते ही एक होने को

 

 

miltehi

 

 

------------------------------
मिलते ही एक होने को
जब आँखें चार होती हैं
गणित की सारी बिधियाँ
इश्क में बेकार होती हैं
------------------------------
- बृजेश यादव

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...