www.swargvibha.in






Shabana K Arif

 

1- छोटे-छोटे लम्हें ज़िंदगी महका देते हैं.. !
इन्हे हाथों की लकीरों में छुपा लेती हूँ मैं.!!

 

2- मुझे मुस्कराने की अदा जो तुमने दी है..!
हालात-ऐ-वतन में बहुत मुश्किल था ये हुनर!!

 

 

HTML Comment Box is loading comments...