www.swargvibha.in






 

शेर...   शोभा रस्तोगी शोभा

 


बुतपरस्ती क्या करूँ तेरी
मेरी हर साँस, रूप है तेरा
————————————————————————————————————————————–
सहर से पहले की रात अधिक स्याह होती है ,
वही बस किसी के सब्र की इन्तहा होती है |
—————————————————————————————————————————————
काफिलों से कह दो हमें छोड़ दे अकेले ,
हम अपनी शख्शियत से नए काफिले बना लेंगे |
—————————————————————————————————————————————
मै एक ऐसा दिया हूँ ,
आंधियां तरस जाती हैं ,
शमा बुझाने को जिसकी |
—————————————————————————————————————————————
पता न पूछ दर्द का मेरे ,
जाँ बन के जिस्म में समाया है वो |
————————————————————————————————————————————–

HTML Comment Box is loading comments...