www.swargvibha.in      www.swargvibha.in                



www.swargvibha.in









 

 

 

SHER    शेर

 

www.swargvibha.in पर उच्च स्तरीय रचानाएँ (कविता, ग़ज़ल, हाइकु, मुक्तक, शेर, कहानी, संस्मरण, पुस्तक समीक्षा आदि) नि:शुल्क प्रकाशनार्थ आमंत्रित हैं। रचानाएँ Mangal यूनीकोड, अथवा अँग्रेज़ी में टंकित कर swargvibha@gmail.com या फिर swargvibha@ymail.com पर भेजी जा सकती हैं।

 

 

Click to read:

Writers

 

 

 

 

 

 

 

 

गालिब

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फ़िर भी कम निकले । ------- गालिब

 

’जलील’ मानकपुरी

जब मैं चलूँ तो साया भी अपना साथ न दे,
जब तुम चलो, जमीन चले,आसमां चले । -------’जलील’ मानकपुरी

 

अग्यात

जिंदगी से तो क्या शिकायत हो,
मौत ने भी भुला दिया है हमें । ---------- अग्यात

 

’ज़फ़र’

उम्रे – दराज माँगकर लाये थे चार दिन,
दो आरजू में कट गये, दो इन्तजार में । ------- ’ज़फ़र’

 

फ़ैज

जंगल में सांप, शहर में बसते हैं आदमी,
सांपों से बचके आये तो डसते हैं आदमी । ------ फ़ैज

 

’जोश’ मलीहाबादी

जंगलों में सर पटकता जो मुसाफ़िर मर गया,
अब उसे आवाज देता कारवाँ आया तो क्या ? ----- ’जोश’ मलीहाबादी

 

निदा फ़ाज़ली

घर से मस्जिद है बहुत दूर, चलो यूँ कर लें,
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाये । ------ निदा फ़ाज़ली

 

सलीम शाहिद

मिट्टी का जिस्म लेकर चले हो तो सोच लो,
स रास्ते में एक समंदर भी आयेगा । ------- सलीम शाहिद

 

’ज़मील’ मजहरी

कुछ ढेर राख के हैं, कुछ अधजली सी लकड़ी,
आया था एक मुसाफ़िर सराये- जिंदगी में । ----- ’ज़मील’ मजहरी

 

’नासिख’

तेरी सूरत से किसी की नहीं मिलती सूरत,
हम जहाँ में तेरी तस्वीर लिये फ़िरते हैं । ------ ’नासिख’

 

Surender Kumar "Abhinn"

 "इंतज़ार "

 कह दिया "इंतज़ार करना कल तक के लिए "
टाल देंगे हम भी मरना कल तक के लिए....
समेट लेगा ख़त उनका आते ही अपने आप मे ,
पड़ेगा हमें सिर्फ़ बिखरना कल तक के लिए .... Surender Kumar "Abhinn"