www.swargvibha.in






अशआर

 

************************अशआर *************************
--
चर्चा खूब होता है अब, हमारा, उसके दयार में !!
शेख़ मस्जिद में करता है ,तवायफ़ बज्मे-यार में !!

***************************************************

आया है सजधज के ,कैद में मिलने !!
देखिये क्या मुझसे मेरा अदू चाहता है !!

ज़ख्म ये कि गैर के पहलु में बैठा है !!
ख़राश ये इसपे मैं कुछ कहूं चाहता है !!

**********************************************************

रिश्ते टूटते नहीं ,हम काटते हैं ,
...........हम काटते हैं इस ज़हन की तलवार से !!
चाहे मैं देखूं ,कि ,तुम देखो,
.........सब छोटे नज़र आते हैं ग़रूर की मीनार से !!

************************************************************

कभी एक तो कभी हज़ार नज़र आते हैं ||
जिन्दगी, यूँ तेरे किरदार नज़र आते है ||

आग लगा दो आईने को, शिकायत नहीं ||
देखता हूँ खुद को ,सरकार नज़र आते हैं ||

*****************************************************************
नरेन्द्र सहरावत

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...