www.swargvibha.in






Ashvani Kumar Singh

 

 

जिंदगी क्या है ?
बस तुम्हें सोंचते रहना
और मौत ?
तुम्हारे खयाल से
महरूम हो जाना |

 

 

HTML Comment Box is loading comments...